विज्ञापन

महावातार बाबा जी की महान शिष्य परम्परा

आप सब की जानकारी के लिए मैं बता दूँ कि महावातार बाबा जी ने ही महात्मा कबीर दास जी को क्रिया योग की दीक्षा दी थी , कबीर दास जी ने श्री गुरु नानक देव जी को क्रिया योग की दीक्षा दी और उन्हें अपने शिष्य के रूप में स्वीकार किया था , वर्तमान समय में शिरडी के साईं बाबा ने भी महावातार बाबा जी से ही क्रिया योग की दीक्षा ली थी ये सभी महान क्रिया योगी हैं , मेरा अनुरोध है कि अपने इसी जीवन  को उन्नत बनाने के लिए , दुखों कष्टों से मुक्ति पाने के लिए ,स्वयं को जानने के लिए आज से ही अपनी पहुँच के भीतर किसी समर्पित क्रिया योगी को तलाशिये और उनसे दीक्षा प्राप्त कर क्रिया योग का अभ्यास आरम्भ कर दीजिये , जीवन आनंद से भर उठेगा  , इसका प्रभाव आपको त्वरित ही अनुभव होगा बस मन बनाने की आवश्यकता है , क्रिया योग के 10 मिनट के अभ्यास से 1 वर्ष की जीवन शक्ति प्राप्त होती है ,आपके सभी कार्य सरल और सफ़ल होते हैं ...

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां