सर्च

रमसोलेपुर मोरंग खाद्यान में खनन माफियाओं के हौसले बुलंद, मोरंग से भरे ओवरलोड़ वाहनों का नही थम रहा सिलसिला प्रसाशन ने भी साधी रखी चुप्पी


संवाददाता:- शैलेश सिंह गौतम

असोथर/फतेहपुर:- रमसोलेपुर मोरंग खाद्यान से बेरोकटोक वाहन चालक भी परिवाहन विभाग के कानून की धज्जियां उड़ा रहे हैं। बुद्धिजीवियों की मानें तो आए दिन सड़क हादसा व सड़कों की खस्ताहाली को देखते हुए संबंधित विभाग को ओवरलोडिंग पर लगाम लगाना चाहिए। अगर निर्धारित मापदंड के अनुसार वाहन में अधिक ओवरलोड होने से कम समय में ही सड़क की सूरत बिगड़ जाती है।इस ओर प्रशासन को विशेष हिदायत बरतनी होगी। जिससे कि ओवरलोडिंग पर अंकुश लगायी जा सके। सड़कों पर धड़ल्ले से ओवरलोडिंग जारी है। ओवर लोडिंग होने से कभी-कभी बड़ी दुर्घटना भी सड़कों पर होती है। जिसमें कई लोगों को जान भी गंवाने पड़ते हैं। आये दिन इस तरह की घटना सड़कों पर देखने को मिल रही है। 

असोथर थाना क्षेत्र के रमसोलेपुर मोरंग खाद्यान पर ओवरलोडिंग का सिलसिला जोरो से जारी है अवैध मोरंग खनन माफिया राज्य सरकार को चूना लगाने में भ्रष्टाचारी कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं इन्हें बस एक मौके की तलाश होती है उसके बाद यह जोंक की तरह सरकार के राजस्व में सेंध लगाकर  खोखला करने में कोई कसर नही छोड़ते हैं । मोरंग का अवैध खनन व ओवरलोडिंग से दोहन कर अपनी जेब भर रहे हैं, और सरकार को चूना लगा रहे हैं जिसका सीधा असर प्रदेश की गरीब जनता पर और प्रदेश के विकास पर पड़ता है बावजूद इसके प्रशासन मौन है।

रामसोलेपुर में अवैध मोरंग खनन   और ओवरलोडिंग का सिलसिला बदस्तूर जारी है अधिकारियों के संज्ञान में लाने के बावजूद इन भ्रष्टाचारियों के हौसले इतने बुलंद हैं कि यह बेलगाम होकर के बेरोकटोक अवैध मोरंग खनन और ओवरलोडिंग में मस्त है। उच्चाधिकारियों का ऐसी स्थिति में कोई कारवाही नहीं करना मामले को संदिग्ध बना रहा हैं।

अवैध तरीके से मोरंग खनन कर के व ओवरलोडिंग वाहनों के कारोबार में लिप्त लोगों द्वारा विभाग के लोगो को भ्रष्टाचार में हिस्सेदारी दी जा रही है जिसके चलते विभाग उन पर कार्रवाई करने से बचता है। लेकिन इस पूरे मामले से प्रदेश को और राज्य सरकार को हो रही राजस्व हानि की ओर किसी का ध्यान नहीं जा रहा है। 

रामसोलेपुर मोरंग खाद्यान से निकल रहे ओवरलोड़ ट्रक व ट्रक्टर जो कि बिना तौल किये हुवे निकलते है जबकि काटे पर लगे सीसीटीवी कैमरे के सामने ट्रक खड़ा कर के बगल से बने रास्ते से सारे वाहनों को निकलवाया जाता है वही दिन रात लंबी लबी बूम वाली मशीने चला कर जलधारा को मोड़ कर पानी की जलधारा से मोरंग निकाल कर गाड़ियों की ओवरलोडिंग की जाती है जबकि सरकार को इस ओवरलोड़ वाहन निकलने से राजस्व को लाखों का चूना लग रहा है वही इन खनन माफियाओं पर कोई कार्यवाही न होने के कारण हौसले बुलंद होते जा रहे है। इन्ही ओवरलोड़ वाहनों की वजह से रोजाना जाम का असर देखने को मिलता है जिसकी वजह से आमजनमानस को भारी भरकम दिक्कतों का सामना करना पड़ता है वही इन ओवरलोड़ वाहनों की वजह से आये दिन लोग एक्सिडेंटन का भी शिकार हो रहे है।

एक तरफ योगी सरकार ओवरलोड़ वाहनों पर लगाम लगाने के लिए कड़े सख्त आदेश जारी किए है लेकिन यहाँ आदेशो की धज्जियां उड़ाते नजर आते है ये खनन माफिया।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ