सर्च

कार्यवाही के नाम पर हुई खानापूर्ति के बावजूद फर्राटा भर रहे मोरंग से भरे ओवरलोड़ ट्रक

संवाददाता:- शैलेश सिंह गौतम

उपजिलाधिकारी के आने की सूचना मिलते ही रमसोलेपुर मोरंग घाट पर मचा हड़कंप।

ओवरलोड़ वाहनों को लगाया गया ठिकाने वही मोरंग घाट पर चल रही बोलेरो उपजिलाधिकारी के आने जाने की दे रही थी सूचना।

असोथर/फतेहपुर:- कस्बे में उपजिलाधिकारी की आने की सूचना मिलते ही रमसोलेपुर मोरंग घाट पर हड़कम्प मच गया उपजिलाधिकारी के कस्बे में आते ही मोरंग खाद्यान पर सन्नाटा छा गया वही मोरंग घाट की एक बोलेरो जो कि उपजिलाधिकारी के आने जाने का लोकेशन ले रही थी वही ओवरलोड़ वाहनों को रास्ते से हटा कर ठिकाने लगा दिया गया था।

असोथर थाना क्षेत्र के रमसोलेपुर मोरंग खाद्यान पर इस समय जोरो से अवैध तरीके से लंबी-लंबी बूम वाली मशीन लगा कर माँ कालिंदनी की कोख को छल्ली कर मानक के अनरूप जाकर लाल सोना निकाल रही है। वही आज कस्बे में उपजिलाधिकारी प्रमोद झा को कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका स्कूल आना था जिसकी सूचना मोरंग माफियाओ को लग गयी जिसके चलते कस्बे के पहले ही ओवरलोड़ वाहन आने से रोक दिया गया था जबकि कस्तूरबा गांधी स्कूल से 200 मीटर पहले ट्रकों को रुकवा दिया गया था व कुछ ट्रकों को ठिकाने लगा दिया गया था वही मोरंग माफिया उपजिलाधिकारी का लोकेशन लिए रहने के लिए एक बोलेरो लगा रखी थी जोकि उनके आने जाने की पूरी लोकेशन दे रही थी वही मिली जानकारी के अनुसार बता दे कि कल रात्रि में उपजिलाधिकारी सदर के नेतृत्व में थरियांव असोथर मार्ग तिराहे के पास कुछ ट्रकों पर कार्यवाही के नाम पर खाना पूर्ति कर दी गयी थी जिसके बावजूद भी मोरंग माफियाओ के हौसले बुलंद रहे ओवरलोडिंग का सिलसिला जारी रहा आज शाम उपजिलाधिकारी जब कस्तूरबा गांधी विद्यालय आये तो रास्ते मे कुछ ओवरलोड़ वाहन मौजूद खड़े रहे लेकिन कोई कार्यवाही नही हुई ।

मौरंग ओवरलोडिग परिवहन से सरकार को दोहरी चपत लग रही है। रॉयल्टी की चोरी के साथ ही सड़कें भी ध्वस्त हो रही हैं। कार्रवाई से बचने के लिए भार वाहन चालक खुलेआम अधिकारियों की आंखों में धूल झोंक रहे हैं। वाहन की नंबर प्लेट पर कालिख व मिट्टी लगाकर रजिस्ट्रेशन नंबर छिपा लेते हैं तो कई में आधे-अधूरे नंबर लिखे नजर आ रहे हैं। अधिकारी वाहन चालकों, संचालकों की करतूत को नजर अंदाज किए हैं।

कई वाहन ऐसे भी नजर आते हैं, जिनमें नंबर प्लेट ही नहीं होती। हालांकि वाहन में रजिस्ट्रेशन नंबर स्पष्ट न होना, नंबर बिगड़े होना या नंबर प्लेट न होना भी यातायात नियमों का उल्लंघन है।

वही ओवरलोडिंग के खिलाफ व अवैध खनन के खिलाफ जिलाधिकारी द्वारा अभी तक कोई कार्यवाही नही हुई है तभी आज रामसोलेपुर मोरंग खाद्यान पर मोरंग माफियाओ के हौसले बुलंद नजर आ रहे है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ